Wednesday, 16 January 2013

शीत ऋतु में अत्यधिक प्रभावशाली है होम मेड हर्बल टी व अजवायन का सेवन - योगाचार्य विजय श्रीवास्तव




   ♦  शीत ऋतु में,





ठण्ड से बचने के लिए लोग तरह तरह की युक्ति व जुगाड़ में लगे रहते हैं, रूम हीटर, ब्लोअर, अलाव, कउड़ा, शरीर पर कई कपडे भी लाद लेंगे यहाँ तक कि कुछ लोग घरों से निकलना भी बंद कर देते हैं।

 चाय पर चाय भी पी जाते हैं जो कि  नुकसान देय है क्योंकि चायपत्ती  के माध्यम से शरीर में अत्यधिक निकोटिन जाना स्वास्थ्य  के लिए हानिकारक है।



किन्तु यदि हम कुछ घरेलू मसालों के माध्यम से घर पर हर्बल पेय बनाकर केवल दिन में दो बार सेवन कर लें, एकाक बार थोड़ी सी अजवायन फांक लें तथा योगासन की दृष्टि से सूर्य नमस्कार व् योग मुद्रासन तथा प्राणायाम की दृष्टि से भ्रस्त्रिका व सूर्यभेदी  प्राणायाम शरीर को अतिरिक्त उर्जा व ऊष्मा देता है ।
           
      हर्बल पेय के लिए निम्नांकित सभी सामान जैसे काली मिर्च, छोटी इलायची, तेजपत्ता, लवंग, दालचीनी, मुलेठी, अजवायन, सोंठ, पीपर, स्याह जीरा इत्यादि को सम मात्रा में लेकर पाउडर बना कर एक में मिला लें।



  अनुपात की दृष्टि से दो कप पानी में उक्त मिश्रण का पाउडर १/२ चम्मच, एक चम्मच शक्कर, चार तुलसी पत्ती, आवश्यकतानुसार दूध डाल कर खौला लें। चायपत्ती डालने की आवश्यकता नहीं है, अब इसे छान कर चुस्की लेते
        हुए शरीर को स्वस्थ रखें।
    यहाँ यह बताना आवश्यक है कि इस पेय पदार्थ व अजवायन के अलग सेवन से शरीर को ऊष्मा व उर्जा तो मिलेगी ही साथ ही साथ शीत ऋतु में होने वाली समस्याएँ जैसे सर्दी, खांसी, गले की खराश, टांसिल रोग, काफ, सीने की जकड़न, बुखार, उल्टी , कोल्ड डायरिया इत्यादि से मुक्ति मिलेगी।
♦ ♦ ♦

               




No comments: