Wednesday, 13 July 2011

बालों का गिरना एक गंभीर समस्या, किन्तु साध्य - योगाचार्य विजय श्रीवास्तव

कारण
          बालों का गिरना या झड़ना एक गंभीर समस्या है. बालों के झड़ने अथवा गंजेपन के कई कारण है जैसे बालों की जड़ों का कमजोर हो जाना, पिट्यूटरी ग्लैंड(पियूस ग्रंथि) में हार्मोन्स की कमी, सिर पर रुसी की अधिकता, बालों की जड़ों में पोषक तत्वों की कमी, क्रोध, शोक, चिंता, अधिक मानसिक परिश्रम, अधिक गरम भोजन, सिर में बढ़ती गर्मी, भोजन में विटामिंस मिनिरल्स, रेशा एवं आभ्यंतर रस हार्मोन्स की कमी, लगातार सिर दर्द रहने से रक्त संचार में कमी, भोजन का सही ढंग से न पचना, सिर के स्नायुओं में प्राण प्रवाह की कमी.
यौगिक उपचार -
                         सर्वांगासन, शीर्षासन(ह्रदय रोगी व रक्तचाप के रोगी सर्वांगासन व शीर्षासन न करें) शवासन, आनंदमदिरासन, भ्रामरी प्राणायाम, कपालभाति, ध्यान, कुंजर क्रिया, नेतिक्रिया.
प्राकृतिक उपचार -


                          घृतकुमारी (एलोवेरा) का जेल बालों में लगायें, आंवला शिकाकाई व रीठा का प्रयोग बालों में करें, प्रातः काल आंवले के चूर्ण का सेवन, लहसुन का रस एक बूंद, अदरक रस 2 बूंद, कागजी नींबू का रस 4 बूंद तीनों को आपस में मिलाकर (जहाँ गंजापन है लगायें.)
अचूक नुस्खा -
                      बर्रे(पीली) का वह छत्ता जिसकी मक्खियाँ उड़ चुकी हो 25 ग्राम, 10-15 देसी गुड़हल के पत्ते,1/2 लीटर नारियल तेल में मंद मंद आग पर उबालें सिकते-सिकते जब छत्ता काला हो जाये तो तेल को अग्नि से हटा दें. ठंडा हो जाने पर छान कर तेल को शीशी में भर लें. प्रतिदिन सिर पर इसकी हल्के हाथ से मालिश करने से बाल उग जाते हैं और गंजापन दूर होता है.
गंजेपन से बचने के लिए बालों में तेल लगायें -
                                                                  जैसे यदि पेड़ पौधों को पानी से न सींचा जाये तो वे कुम्हला जाते है और धीरे धीरे नष्ट होने लगते हैं उसी प्रकार यदि बालों में प्रतिदिन तेल न लगाया जाये तो वे कमजोर होकर झड़ने व गिरने लगते है अर्थात सिर पर तेल की मालिश करने से बाल सुरक्षित कोमल, घने, चिकने, स्वस्थ व काले रहते हैं.

4 comments:

Kanishka Kashyap said...

क्या आप ब्लॉगप्रहरी के नये स्वरूप से परिचित है.हिंदी ब्लॉगजगत से सेवार्थ हमने ब्लॉगप्रहरी के रूप में एक बेमिशाल एग्रीगेटर आपके सामने रखा है. यह एग्रीगेटर अपने पूर्वजों और वर्तमान में सक्रिय सभी साथी एग्रीगेटरों से कई गुणा सुविधाजनक और आकर्षक है.

इसे आप हिंदी ब्लॉगर को केंद्र में रखकर बनाया गया एक संपूर्ण एग्रीगेटर कह सकते हैं. मात्र एग्रीगेटर ही नहीं, यह आपके फेसबुक और ट्वीटर की चुनिन्दा सेवाओं को भी समेटे हुए है. हमारा मकसद इसे .सर्वगुण संपन्न बनाना था. और सबसे अहम बात की आप यहाँ मित्र बनाने, चैट करने, ग्रुप निर्माण करने, आकर्षक प्रोफाइल पेज ( जो दावे के साथ, अंतरजाल पर आपके लिए सबसे आकर्षक और सुविधाजनक प्रोफाइल पन्ना है), प्राइवेट चैट, फौलोवर बनाने-बनने, पसंद-नापसंद..के अलावा अपने फेसबुक के खाते हो ब्लॉगप्रहरी से ही अपडेट करने की आश्चर्यजनक सुविधाएं पाते हैं.

सबसे अहम बात , कि यह पूर्ण लोकतान्त्रिक तरीके से कार्य करता है, जहाँ विशिष्ट कोई भी नहीं. :)

कृपया पधारें.. और एक एग्रीगेटर. माइक्रो ब्लॉग जैसे ट्वीटर और सोशल नेट्वर्क..सभी की सुविधा एक जगह प्राप्त करें .. हिंदी ब्लॉग्गिंग को पुनः लयबद्ध करें.
http://blogprahari.com
टीम ब्लॉगप्रहरी

Anonymous said...

prayas sarahneey hai. aur parishram se aur nikhar aega.

Abhishek Shukla said...

Nice blog .. and content too . U can also check www.ayurvedkenuskhe.net

Preeti Chauhan said...

तुलसी के फायदे
Read more todaynews18.com https://goo.gl/GYTZ7D